All Events

image
रक्षा बंधन 2020
अपने भाई की कलाई पर राखी बांधने के लिये हर बहन रक्षा बंधन के दिन का इंतजार करती है। श्रावण मास की पूर्णिमा को यह पर्व मनाया जाता है।
  • Start Date: December 10, 2020
  • End Date: January 08, 2021
image
  • Start Date: October 11, 2019
  • End Date: October 11, 2019
  • Organizer: अखिल भारतीय असाटी महासभा
  • Sponsor: निरंक
image
प्रतिभा सम्मान 2019
वर्ष 2019 के सफल विधार्थियों का सम्मान
  • Start Date: August 09, 2019
  • End Date: August 09, 2019
  • Organizer: अखिल भारतीय असाटी महासभा
  • Sponsor: भोपाल असाटी समाज समिति
image
2019 प्रतिभा सम्मान
हर वर्ष की भांति इस वर्ष भी सन 2019 में अखिल भारतीय असाटी महासभा द्वारा प्रतिभावान छात्रों एवं प्रतिभावान व्यक्तित्व का सम्मान किया गया
  • Start Date: September 08, 2019
  • End Date: September 08, 2019
  • Organizer: अखिल भारतीय असाटी महासभा
  • Sponsor: भोपाल असाटी समाज
image
गुरु पूर्णिमा
हर साल आषाढ़ मास की पूर्णिमा तिथि के दिन गुरु पूर्णिमा का पावन पर्व मनाया जाता है। इस साल यह तिथि 5 जुलाई को पड़ रही है। 5 जुलाई रविवार को गुरु पूर्णिमा का पावन पर्व मनाया जाएगा। इस दिन चंद्र ग्रहण भी लग रहा है।
  • Start Date: July 05, 2020
  • End Date: July 05, 2020
  • Organizer: हिन्दू त्यैहार
  • Sponsor: Festival
image
प्रदोष व्रत (शुक्ल)
2 जुलाई को शुक्ल प्रदोष व्रत रखा जाएगा। प्रदोष व्रत भगवान शिव का आशीर्वाद पाने के लिए रखा जाता है। यह व्रत प्रति माह में दो बार त्रयोदशी तिथि के दिन रखा जाता है। एक शुक्ल पक्ष की त्रयोदशी में और दूसरा कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी में।
  • Start Date: July 02, 2020
  • End Date: July 02, 2020
  • Organizer: हिन्दू त्यैहार
  • Sponsor: Festival
image
देवशयनी एकादशी / अषाढ़ी एकादशी
1 जुलाई को देवशयनी एकादशी व्रत रखा जाएगा। आषाढ़ शुक्ल पक्ष की एकादशी को देवशयनी एकादशी के नाम से जाना जाता है। इसी दिन से चतुर्मास प्रारंभ हो जाते हैं जिसके बाद चार महीनों तक मांगलिक कार्यों पर रोक लग जाती है।  इसी दिन से जगत के पालनहार भगवान विष्णु जी पाताल लोक में चार माह तक सोने के लिए चले जाते हैं। जिसके बाद धरती पर किसी प्रकार का मांगलिक कार्य नहीं किया जाता है। माना जाता है कि चतुर्मास के दौरान सूर्य व चंद्र का तेज पृथ्वी पर कम पहुंचता है, जल की मात्रा अधिक हो जाती है, वातावरण में अनेक जीव-जंतु उत्पन्न हो जाते हैं, जो अनेक रोगों का कारण बनते हैं। इसलिए साधु-संत, तपस्वी इस काल में एक ही स्थान पर रहकर तप, साधना, स्वाध्याय व प्रवचन आदि करते हैं।
  • Start Date: July 01, 2020
  • End Date: July 01, 2020
  • Organizer: हिन्दू त्यैहार
  • Sponsor: Festival